Pages

विनम्र श्रद्धांजलि - श्रीलाल शुक्ल


सुप्रसिद्ध हिंदी साहित्यकार श्री श्रीलाल शुक्ल जी आज हमारे बीच नहीं हैं. साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित और पद्म -भूषण से सुशोभित श्री शुक्लजी ने राग दरबारी, सीमाएं टूटती हैं, राग विराग इत्यादि कई यादगार कृतियाँ साहित्य जगत को दी हैं . श्रीलाल शुक्ल के देहावसान से साहित्य जगत में जो सूनापन आया है, उसे भरा जाना शायद इस सदी में सम्भव नहीं हो पाएगा. 'हिन्दी चेतना' परिवार उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता है.

श्रीलाल नें लिखी धूप तो कभी बुहारी छांव,
जमा गए पाठक के मन पर जो 'अंगद का पांव',
जो 'अंगद का पांव' प्रेरणा का संचारी,
व्यंग लोक की पारसमणि 'राग दरबारी',
जग को दिखा गयी कलम जो अनुपम कई कमाल,
श्रद्धांजलि हमारी युग युग अमर रहें श्रीलाल.

1 टिप्पणियाँ:

संजय भास्कर said...

विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ

Post a Comment